Satyam Bruyat - Career Solution: Start Plywood Business प्लाईवुड उद्योग

Start Plywood Business प्लाईवुड उद्योग

संपूर्ण संसार में लकड़ी को पर्याय रूप में ही प्लाईवुड का उपयोग हो रहा है पुराने समय में प्लाईवुड का उपयोग पैकिंग के काम के लिए होता था लेकिन आजकल दैनिक जीवन की जरूरतों में प्लाईवुड का उपयोग बहुत ज्यादा है.
लकड़ी से तैयार फर्नीचर महंगी होने के कारण तथा वृक्षों की कटाई पर प्रतिबंध के कारण प्लाईवुड उद्योग तेजी से उभरा है तथा लकड़ी की अपेक्षा यह काफी सस्ता है.
वर्तमान समय में प्लाईवुड की मांग इतनी ज्यादा है कि इस को पूरा करने के लिए दूसरे देशों से हमें प्लाईवुड का आयात करना पड़ता है जबकि भारत के पश्चिम बंगाल, केरल कर्नाटक और अंडमान निकोबार आदि राज्यों में प्लाईवुड का उत्पादन भी होता है विकसित देशों की अपेक्षा भारत में प्लाईवुड का उपयोग तथा उत्पादन कमी है जब से सरकार ने प्लाईवुड उद्योग को संरक्षण देना शुरू कर दिया तब से हर दिन नए-नए प्रकार के प्लाईवुड बाजार में आ रहे हैं.
आजकल औद्योगिक क्षेत्रों में प्लाईवुड की मांग बहुत ज्यादा है.
प्लाईवुड की सीट्स वजन में काफी हल्की होती है तथा यह जगह भी कम लेती है जिससे इसका यातायात काफी सस्ता है उत्पादन और अन्य खर्च भी लकड़ी की अपेक्षा काफी कम है तथा प्लाईवुड से तैयार हुई वस्तुएं फर्नीचर जल्दी खराब भी नहीं होते इसीलिए लोगों का झुकाव प्लाईवुड के प्रति ज्यादा ही है क्लाउड की खास बात यह है कि इसमें दिमाग भी नहीं लगता.

आजकल घर के टेबल , दीवान बेड, अलमारियां तथा कुर्सियां साथी साथ कार्यालयों में लगने वाले फर्नीचर भी प्लाईवुड से ही तैयार किए जा रहे हैं.

मशीनरी

ट्रिमिंग और चार्जिंग मशीन, आरा मशीन, डेलाइट प्रेस, पीलिंग मशीन, हैवी ऑटोमेटिक क्लिपर, बॉयलर , रोटर कट मिलर ,
सीजनिंग भट्टी,  हीटिंग सिस्टम और डबल ड्रम सेंटर आदि मशीनरी की जरूरत होती है.

फर्नीचर की दुकानों तथा हार्डवेयर की दुकानों में प्लाईवुड ज्यादा बिकता है आजकल घर के दरवाजे खिड़कियां तैयार करने वाले मिस्त्री हार्डवेयर की दुकान से ही प्लाईवुड खरीदते हैं इसलिए आप होलसेल में भी बेच सकते हैं.

इस व्यवसाय को शुरू करने के लिए 10000 स्क्वायर फीट जमीन की जरूरत होगी तथा 4 कुशल 4 कुशल के साथ 10 अकुशल मनुष्य बल की जरूरत भी होगी.
अगर मशीनरी की बात करें तो यह 65,000 में ही आ जाएगी लेकिन कच्चा माल 1 वर्ष के लिए 14400000 रुपए का पड़ेगा.
 कुल वार्षिक बिक्री 27343402 का इसमें कुल वार्षिक खर्च 22075,000 रुपए होंगे.
जिस में कुल वार्षिक फायदा 5240000 रुपए का होगा.


Post a Comment

0 Comments