5 नवंबर का विश्व का इतिहास November History of India And World

5 नवंबर को जन्मे महान व्यक्ति

1870 भारत के महान स्वतंत्रता सेनानी चितरंजन दास का जन्म हुआ
1917 भारत के स्वतंत्रता सेनानी एवं हरियाणा के भूतपूर्व मुख्यमंत्री बनारसी दास गुप्ता का जन्म हुआ 
1921 हिंदी के प्रसिद्ध साहित्यकार उदय राज सिंह का जन्म हुआ


5 नवंबर को धरा को अलविदा कहने वाले व्यक्ति


1915 मुंबई नगरपालिका के संविधान निर्माता तथा भारतीय अभिनेता फिरोजशाह मेहता का निधन हो गया 1950 द्रुपद और खयाल गायन शैली के उच्चतम गायक फैयाज खान का निधन हो गया
1982 प्रसिद्ध आलोचक एवं कवि विजयदेव नारायण साही का देहांत हो गया
1998 रगतिवादी विचारधारा के प्रसिद्ध लेखक और कवि नागार्जुन का निधन हो गया 
2011 ऐसे संगीतकार जो अपने गीत खुद लिखते थे और गाते थे ऐसे कलाकार भूपेन हजारिका का निधन हो गया

5 अक्टूबर की घटनाएं

November History of India And World



1556 मुगल शासक अकबर ने हेमू को पानीपत के दूसरे युद्ध में आज ही के दिन हराया था 
1630 इंग्लैंड और स्पेन के बीच शांति समझौते संपन्न हुए
1678 स्वीडन के ग्रिप्सवर्ल्ड शहर पर जर्मनी की एक विशेष सेना ने कब्जा कर लिया 
1914 फ्रांस एवं इंग्लैंड के द्वारा तुर्की के खिलाफ युद्ध की घोषणा कर दी गई 
1920 भारत में इंडियन रेड क्रॉस सोसायटी की स्थापना की गई 
1930 अमेरिकी साहित्यकार सिनक्लेयर लेविस को साहित्य का नोबेल पुरस्कार से सम्मानित किया गया 
1951 अमेरिका ने नोवेदा परमाणु परीक्षण केंद्र में परमाणु का परीक्षण किया 
1961 आजादी के बाद भारत के प्रधानमंत्री बनने वाले पंडित जवाहरलाल नेहरू ने न्यूयॉर्क की यात्रा किए 
1985 तंजानिया के राष्ट्रपति जूलियन नएरेरे ने 24 वर्ष तक शासन करने के बाद अपने पद को त्याग दिया 2001 रूस और भारत ने अफगान सरकार में तालिबान की भागीदारी को नामंजूर कर दिया 
2002 ईरान की जेल में बंद जिसके बड़े असंतुष्ट नेता अब्दुल्लाह लोरी को ईरान के सर्वोच्च नेता अयातुल्लाह खोमेनी ने माफी दे दी 
2004 निराली संसद में प्रधानमंत्री एरियल सलून की गाजा पट्टी और पश्चिमी तट की चार बच्चियों को खाली करने योजना को मंजूरी दे दी 
2006 ईरान के अपदस्थ राष्ट्रपति सद्दाम हुसैन को मानवता के खिलाफ अपराधी मानते हुए वहां की उच्च न्यायालय ने फांसी की सजा सुना दी 
2013 मंगल ग्रह की परिक्रमा के लिए ध्रुवीय राकेट सतीश धवन अंतरिक्ष केंद्र से सफलतापूर्वक प्रक्षेपित करके भारत ने इतिहास रच दिया

Post a Comment

0 Comments