केश तेल आजकल के जीवनशैली में बालों की उचित देखभाल करने की सबसे जरूरतमंद चीज है जिसका उपयोग हर एक घर में बच्चे से लेकर बुजुर्ग तक करते हैं और प्राचीन काल से करते आ रहे हैं.
बालों को सफेद होने से बचाने के लिए तथा बालों में जू और जीव जंतु ना हो इसलिए आयुर्वेदिक तेल का उपयोग बहुतायत मात्रा में प्राचीन काल से होता रहा है.
नारियल का तेल सरसों का शुद्ध तेल मूंगफली का तेल इत्यादि में सुगंधित द्रव्य को मिलाकर आयुर्वेदिक केश तेल तैयार किया जाता है.
बढ़ते प्रदूषण की वजह से लोगों में बालों के झड़ने की अनेकों बीमारियां है इसे रोकने के लिए आंवला भृंगराज माका आदि आयुर्वेदिक वनस्पतियों के रस का मिश्रण तैयार करके आयुर्वेदिक तेल बनाया जाता है तथा ऐसे अनेकों उत्पाद वर्तमान समय में बाजार में उपलब्ध है.

आयुर्वेदिक केश तैयार करना बहुत ही आसान है इसे आप कम दिनों की ट्रेनिंग लेकर आसानी से घर पर ही शुरु कर सकते हैं.



रा मटेरियल्स


इस उद्योग को शुरू करने के लिए राम मटेरियल में सरसों का तेल तिल का तेल नारियल का तेल मूंगफली का तेल आंवला कारस भृंगराज फूलों की सुगंधित द्रव्य आदि उपयोग में लाए जाते हैं.

मशीनरी


इस उद्योग में बहुत कम मशीनें लगती है प्रमुख रुप से मिक्सर फिल्टर मशीनरी का सेट पैकिंग मशीन आदि लगेगी.

इस उद्योग को शुरू करने के लिए 2000 स्क्वायर फीट जमीन की जरूरत होती है जिसमें 1000 स्क्वायर फीट की इमारत होनी चाहिए इस उद्योग को कम से कम मनुष्य बनने शुरू कर सकते हैं इसमें दो कुशल और चार और कुशल मनुष्य बल पर्याप्त है.
इस व्यवसाय को शुरू करने के लिए यंत्र सामग्री ₹500000 तक की आएगी अगर कच्चे माल की बात करें तो मासिक ₹150000 का कच्चा माल लगेगा.

इस उद्योग को शुरू करने में बैंकों से 65% कार्य मिलता है तथा आप को 35% खुद लगाना होगा.

इस उद्योग में वार्षिक 1800000 रुपए का कच्चा माल लगेगा जिससे कि 37 लाख रुपए तक की वार्षिक बिक्री होगी.
कुल वार्षिक खर्च 2800000 रुपए का आएगा जिसमें मनुष्य बल कच्चा माल और अन्य व्यय भी शामिल है इस प्रकार आप इस उद्योग से ₹ 9 लाख रुपए तक वार्षिक कमा सकते हैं.