व्यवसाय में प्रमुख रूप से आधुनिक उद्योग सेवा उद्योग लघु उद्योग गृहोपयोगी उद्योग अन्न प्रक्रिया उद्योग खेती से संबंधित उद्योग आदि है.
व्यवसाय का चयन करते समय हम जहां पर रहते हैं वहां की पारिवारिक पार्श्वभूमी बौद्धिक क्षमता मेहनत करने की तैयारी आर्थिक क्षमता नफे-नुकसान को सहने की मानसिक तैयारी व्यवसाय के लिए आपके आसपास का वातावरण विकास की दृष्टि से भगवान की दृष्टि से उचित है क्या यह सब सोच समझकर विचार करके व्यवसाय का चयन करना चाहिए.
व्यवसाय शुरू करते समय सबसे महत्वपूर्ण और दीर्घकालीन परिणाम करने वाला निर्णय मतलब व्यवसाय का चयन व्यवसाय की शुरुआत करते वक्त के सिद्धांत की सामग्री संसाधन की जरूरत होती है वैसे ही कच्चे सामानों की भी जरूरत होती है.




उत्पादित व्यवसाय शुरू करना हो तो जो पालन शुरू करना है उसके लिए लगने वाले कच्चे सामग्री अपने पास उपलब्ध है या नहीं यह देखना है अगर नहीं है तो जहां उत्पादन शुरू करना है वहां से कितनी दूरी पर कच्ची सामग्री उपलब्ध है इसका आकलन करना है तथा वहां से उत्पादन लेने वाली जगह तक वह सामग्री लाने के लिए ट्रांसपोर्टेशन में कितना खर्चा होता है वह खर्चा हमारे लिए उचित होगा या नहीं क्या वह खर्च करके हम उत्पादित सामान की कीमत अन्य प्रकार के उत्पादों से कंपटीशन करते वक्त हमें तालमेल रखना संभव है या नहीं इन सब पर ध्यान देना होगा.
हमें नया व्यवसाय शुरू करते वक्त कुछ जरूरी बातों पर ध्यान देना होगा व्यवसायों में से हम एक कर सकने वाले सफलता की निश्चित गारंटी देने वाले किसी भी एक विभाग का सिर्फ एक ही व्यवसाय चुने.
हमें जब भी व्यवसाय शुरू करना हो हमें उस समय सिर्फ एक ही विकल्प चुनना होगा और उस पर अपना पूरा ध्यान केंद्रित करना होगा जिससे कि हम उसमें आगे बढ़ सके और यह हमारे व्यवसाय के लिए भी जरूरी होगा.
व्यवसाय में


1. आधुनिक उद्योग
2. गृहोपयोगी उद्योग
3. खेतीबाड़ी से संबंधित उद्योग
4. लघु उद्योग
5. सेवा उद्योग तथा
6. अन्न प्रक्रिया उद्योग है
इन सभी उद्योग में अनेकों प्रकार के व्यवसाय आते हैं इनमें से एक ही विकल्प चुनकर अपना व्यवसाय शुरू करना चाहिए.